कोरबा कलेक्टर ने डीएमएफ के करोड़ो की राशि को खनन प्रभावित क्षेत्रों की जगह शहरी क्षेत्रों में कर दिया ज्यादा खर्च। सीएसइ का डीएमएफ को लेकर बड़ा खुलासा:

छत्तीसगढ़ राज्य को खनिज संपदा से परिपूर्ण होने के कारण बड़े पैमाने पर खनिज राजस्व की प्राप्ति होती है।राज्य के सबसे ज्यादा खनिज राजस्व वाले जिले में कोरबा जिले का नाम सबसे ऊपर की श्रेणी में आता है।इस जिले में कोयला उत्खनन की बड़ी बड़ी खदाने है।जिसके कारण राजस्व में जिला खनिज निधि में करोड़ो की राशि आती है।माइंस के उत्खनन क्षेत्र ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रो में है।कोरबा को छत्तीसगढ़ की ऊर्जा नगरी के नाम से भी जाना जाता है।सरकार ने माईनिंग प्रभावित क्षेत्रों के सुब्यवस्थित विकास को लेकर डीएमएफ़ की स्थापना की थी।सरकार के इस सिस्टम को बनाने का मूल उद्देश्य छत्तीसगढ़ में पूरी तरह से भटक गया है।कोरबा क्षेत्र के रहवासी प्रदूषण से पीड़ित होकर जीवन जीने को मजबूर है।उस पर कार्य करने की जगह बिल्डिंग निर्माण के कार्य ज्यादा कराये गये है।

कोरबा शहर से कुछ दूर में स्थित खनिज उत्खनन गांव के लोगो को पीने का स्वच्छ पानी तक नसीब नही हो पाता है।खनिज राजस्व की राशि को इन लोगो की व्यवस्था के लिये खर्च करने के बजाय शहर में निर्माण कार्य के काम किये गये है।डीएमएफ की राशि को एनजीओ को दिया जा रहा है।इन एनजीओ से मधुमख्खी पालन के काम वन विभाग को एजेंसी बनाकर करवाये गये है।ग्रामीणों की मूलभूत समस्याओं के समाधान की जगह अन्यत्र कार्य कलेक्टर के द्वारा करवाना समझ से परे है। करोड़ो रुपयों को दूसरे मद में व्यय करके कोरबा कलेक्टर कैसर हक़ ने बड़ा अपराध किया है।क्या सरकार ऐसे अपराध करने वाले अफसरों को क्षमादान करने के मूड में है।मद परिवर्तन करके किसी अन्यत्र जगह में व्यय करना उत्खनन क्षेत्र के लोगो के साथ धोखा नहो है।

खनिज मद को परिवर्तन करके कलेक्टर ने उत्खनन क्षेत्रो के लोगो के अधिकारो का हनन किया है।
सी एस ई की रिपोर्ट के आधार पर सरकार को तत्काल ऐसे कलेक्टर के ऊपर कार्यवाही करने की आवश्यकता है।
पर सरकार को इतना बड़ा मामला नजर नही आ रहा है।
डीएमएफ़ में किस जगह कितना व्यय करना है ये सारे फैसले जिले के कलेक्टर ही तय कर करके बड़े खेल खेलने में लगे हुए है।जिनके विकास के लिये इस राशि का उपयोग होना था वो तो नही हुआ पर इन पैसो से किसका विकास हुआ है ये जाँच का विषय जरूर है।
अब आने वाले समय में ही पता चलेगा कि रमन सरकार इस बड़े खेल में कोरबा कलेक्टर के ऊपर कार्यवाही करेगी या क्षमा दान करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *